CBSE Sanskrit Grammar | NCERT Sanskrit Vyakran Sandhi Prakarnam | संधि-प्रकरणम्

 

Cbse Ncert Sanskrit Grammar संस्कृत व्याकरण
Sanskrit Sandhi Prakarnm (संधि-प्रकरणम्)

Question : स्वर संधि किसे कहते हैं?
Answer: दो स्वरों के मिलने से जो विकार उत्पन्न होता है, उसे स्वर संधि कहते हैं।
जैसे - अ + अ = आ, कार्य + अधीन = कार्याधीन।

Question : स्वर संधि के कितने भेद हैं?
Answer: स्वर संधि के पाँच भेद हैं -
क) दीर्घ संधि।
ख) वृद्धि संधि।
ग) गुण संधि।
घ) यण संधि।
ङ) अयादि संधि।

Question : संस्कृत मे संधि के कितने प्रकार हैं (संधि प्रकरणम्) ?
Answer:
क) दीर्घ संधिः।
ख) वृद्धि संधिः।
ग) गुण संधिः।
घ) यण संधिः।
ङ) अयादि संधिः।
च) पूर्वरूपसंधिः।
छ) पररूपसंधिः। 
ज) प्रकृतिभावसंधिः (संधि - निषेध) 

Question: दीर्घ संधि किसे कहते हैं?
Answer: अ, इ, उ, ऋ के बाद समान स्वर आए तो दोनों मिलाकर दीर्घ हो जाता है।
उदाहरण - अ + अ = आ, राम + अनुजः = रामानुजः।
आ + आ = आ, विद्या + आलयः = विद्यालयः।
इ + इ = ई, रवि + इन्द्रः = रवीन्द्रः।
उ + उ = ऊ, भानु + उदयः = भानूदयः।
ऋ + ऋ = ऋ, पितृ + ऋणम् = पितृणम् 

Question: गुण संधि किसे कहते हैं?
Answer: अगर 'अ' या 'आ' के बाद 'इ' या 'ई' आए तो दोनों मिलकर 'ए' हो जाता है और 'अ' या 'आ' के बाद 'उ' या 'ऊ' आए तो दोनों मिलकर 'ओ' हो जाता है। साथ ही 'अ' या 'आ' के बाद 'ऋ' आए तो दोनों मिलकर 'अर्' हो जाता है।
जैसे - अ + इ = ए, देव + इन्द्रः = देवेन्द्रः। 
आ + ई = ए, रमा + ईशः = रमेशः।
अ + उ = ओ, सूर्य + उदयः = सूर्योदयः। 
अ + ऋ = अर्, देव + ऋषिः = देवर्षिः। 

Question: वृद्धि संधि किसे कःते हैं? 
Answer: 'अ' या 'आ' के बाद 'ए' या 'ऎ' आये तो दोनों मिलकर 'ऐ' हो जाता है और  'अ' या 'आ' के बाद 'ओ' या 'औ' आये तो दोनों मिलकर 'औ' हो जाता है।
उदहारण - अ + ओ = औ, ग्राम + ओकः = ग्रामौकः।
आ + ओ = औ, गंगा + ओधः = गंगौधः।
अ + ए = ऐ, तत्र + एव = तत्रैव।
आ + ए = ऐ, यथा + एव = यथैव।

Question: यण संधि किसे कह्ते हैं?
Answer: अगर 'इ', 'उ', 'ऋ', 'लृ' के बाद कोइ भिन्न स्वर आये तो 'इ' का 'य', 'उ' का 'व्', 'ऋ' का 'र्' और 'लृ' का 'ल्' हो जाता है| जैसे -
प्रति + एकम् = प्रत्येकम्,
अनु + अयः = अन्वयः,
पितृ + आदेश = पित्रादेशः,
लृ + आकृति = लाकृतिः,
सु + आगतम् = स्वागतम्

Question: अयादि संधि किसे कह्ते हैं?
Answer: अगर 'ए', 'ऐ', 'ओ' और 'औ' के बाद कोइ भिन्न स्वर आये तो 'ए' का 'अय्', 'ऐ' का 'आय्', 'ओ' का 'अव', 'औ' का 'आव्' हो जाता है| जैसे -
ने + अनम् = नयनम्,
नै + अकः = नायकः,
पौ + अकः = पावकः                         

Question: पूर्वरूपसंधिः का उदाहरण दें। 
Answer: हरे + अव = हरेsव

Question: पररूपसंधिः का उदाहरण दें। 
Answer: प्र + एषणम् = प्रेषणम्,
उप + ओषति = उपोषति,
अव + ओषति = अवोषति

Question: प्रकृतिभावसंधिः (संधि - निषेध) का उदाहरण दें। 
Answer: कवी + इमौ = कवी इमौ,
विष्णू + एतौ = विष्णू एतौ,
लते + एते = लते एते।
पूर्वपद में द्विवचन के 'ई', 'ऊ', 'ए' होने पर ऐसा होता है।

 CBSE NCERT Sanskrit Grammar (Sandhi) 

Next Vyanjan Sandhi (व्यंजन संधि)
.. 








No comments:
Write comments