Sadaachar, Ruchira - Class 7 Sanskrit - Hindi summary, word meaning, NCERT solutions of textbok exercises | CBSE Sanskrit Guide | सदाचार:

 

Class 7  Sadaacharah (सदाचारः)
CBSE Notes, NCERT Solutions, CBSE Guide for Sanskrit - Ruchira
Meaning of Sanskrit Words in Hindi / English 
Summary and Meaning of Sanskrit Slokas

RUCHIRA - Lesson Sadaacharah (सदाचारः) 
शब्दार्थ, श्लोक का अर्थ - Meaning of Sanskrit Words and Slokas (Stanza)

(१) यस्मिन् = जिस,  सान्तरालानाम् = वर्गों के मध्य आए समस्त उपवर्गों का,  पारम्पर्यक्रमात् = परम्परा क्रम से,  वर्णानाम् = समस्त वर्गों का, उच्यते = कहा जाता है।  
  • प्रथम श्लोक में कहा है कि जिस देश में सभी वर्गों का, वर्गों के मध्य आए सभी उपवर्गों का , परम्पराक्रम से प्राप्त आचार को ही सदाचार कहते हैं। 
(२) त्यजेत् = छोड़ दे,  स्मरेत् = याद करे,   ततः = बाद में,   कृत्वा = करके। 
  • द्वितीय श्लोक का अर्थ है कि सुबह में बिस्तर को छोड़ना चाहिए, सबसे पहले ईश्वर को स्मरण करना चाहिए। उसके बाद नित्यकर्म करके तब अध्ययन करना चाहिए। 
(३) ब्रुयात् = बोलना चाहिए,  अनृतम् = असत्य,  सनातनः = शाश्वत। 
  • तृतीय श्लोक में यह बताया गया है कि मनुष्य को हमेशा सच बोलना चाहिए, प्रिय बोलना चाहिए, अप्रिय सत्य नहीं बोलना चाहिए। प्रिय झूठ नहीं बोलना चाहिए, यह ही सनातन धर्म है। 
(४) सर्वदा = सदा,  मृदुता = कोमलता,  कदाचन = कभी,  ऋजुता = सरलता,  स्यात् = हो,  औदार्यम् = उदारता। 
  • इस श्लोक में कहा गया है कि व्यवहार में सदा उदारता और सत्यता हो। सरलता और कोमलता हो, कभी भी कुटिलता न हो। 
(५) मनसा = मन से,  वाचा = वाणी से,  सेवेत = सेवा करनी चाहिए,  कर्मणा = कर्म से,  सततम् = निरन्तर,  मातरम् = माता  को   
  • पाँचवें श्लोक में कहा गया है कि श्रेष्ठ व्यक्ति जैसे गुरू, माता तथा पिता को मनसे, कर्मसे और वचन से निरन्तर सेवा करनी चाहिए। 
(६) मित्रेण = मित्र के (साथ),  प्रयासेन = प्रयत्नपूर्वक,  ज्ञात्वा = ज्ञान कर,  कलहम् = झगड़ा, परिवर्जयेत् = टाल दे  
  • छठे श्लोक में यह कहा गया है कि मित्रों के साथ झगड़ा करके कोई भी व्यक्ति सुखी नहीं होता है। अतः जानने के पश्चात् मनुष्य को ऐसा नहीं चाहिए, जहां झगड़े की संभावना हो उसे टाल देना चाहिए।   

Suggested to Read (Learn how English & Hindi numbers spelt in Sanskrit): 


NCERT Solutions of CBSE Class 7 Sanskrit - Ruchira
Chapter Sadaacharah textbook exercises answers - सदाचारः (प्रश्न - अभ्यास)

Question 1: सर्वान् श्लोकान् सस्वरं गायत। (सभी श्लोकों को स्वर सहित गाएँ)
उत्तरम् (Answer)Do it yourself in class.

Question 2: उपयुक्तकथनानां समक्षम् 'आम्' अनुपयुक्तकथनानां समक्षं 'न' इति लिखत - (उपयुक्त कथनों के सामने 'आम्' तथा अनुपयुक्त कथनों के सामने 'न' इस प्रकार लिखें)
(क) प्रातः काले ईश्वरं स्मरेत्।  ______
(ख) अनृतं ब्रूयात।                ______
(ग) मनसा श्रेष्ठजनं सेवेत।       ______
(घ) मित्रेण कलहं कृत्वा जनः सुखी भवति।  ______
(ङ) प्रातः काले शय्यां न त्यजेत्।   ________
उत्तरम् (Answer):
(क) प्रातः काले ईश्वरं स्मरेत्। = आम्
(ख) अनृतं ब्रूयात। = 
(ग) मनसा श्रेष्ठजनं सेवेत। = आम्
(घ) मित्रेण कलहं कृत्वा जनः सुखी भवति। = 
(ङ) प्रातः काले शय्यां न त्यजेत्। = 

Question 3: एकपदेन उत्तरत - (एक पद में उत्तर दें)
(क) कदा शय्यां त्यजेत् ?
(ख) कानि कृत्वा अध्ययनं कुर्यात् ?
(ग) किं ब्रूयात् ?
(घ) केन सह कलहं कृत्वा नरः सुखी न भवेत् ?
उत्तरम् (Answer):
(क) प्रातः काले। 
(ख) नित्यकर्माणि।  
(ग) सत्यं। 
(घ) मित्रेण। 

Question 4: रेखाङ्कितपदानि आधृत्य प्रश्ननिर्माणं कुरुत - (रेखांकित पदों के आधार पर प्रश्ननिर्माण करें)
(क) प्रथमम् ईश्वरं स्मरेत्। 
(ख) कलहं कृत्वा नरः दुःखी भवति। 
(ग) पितरं कर्मणा सेवेत। 
(घ) व्यवहारे मृदुता श्रेयसी। 
(ङ) सर्वदा व्यवहारे ऋजुता विधेया। 
उत्तरम् (Answer):
(क) प्रथमम् किम् स्मरेत् ?
(ख) किं कृत्वा नरः दुःखी भवति ?
(ग) कं कर्मणा सेवेत ?
(घ) व्यवहारे का श्रेयसी ?
(ङ) कदा व्यवहारे ऋजुता विधेया ?


Question 5: प्रश्नमध्ये त्रीणि क्रियापदानि सन्ति। तानि प्रयुज्य सार्थक - वाक्यानि रचयत - (प्रश्न के मध्य तीन क्रियापद हैं। उनका प्रयोग कर सार्थक वाक्य बनाएँ)


उत्तरम् (Answer):
(क) सत्यं प्रियं च ब्रूयात्। 
(ख) अनृतं प्रियं च न ब्रूयात्। 
(ग) सत्यं अप्रियं च न ब्रूयात्। 
(घ) वाचां गुरूं सेवेत। 
(ङ) मनसा मातरं पितरं च सेवेत। 
(च) श्रेष्ठजनं कर्मणा सेवेत। 
(छ) व्यवहारे सर्वदा औदार्यं स्यात्। 
(ज) व्यवहारे कदाचन कौटिल्यं न स्यात्।

Question 6: मञ्जूषातः अव्ययपदानि चित्वा - रिक्तस्थानानि पूरयत- (मंजूषा से अव्ययपद लेकर रिक्तस्थान पूर्ति करें)
मञ्जूषा -  तथा   न   कदाचन   सदा    च     अपि 
(क) भक्तः _______ ईश्वरं स्मरति। 
(ख) असत्यं _______ वक्तव्यम्। 
(ग) प्रियं ______ सत्यं वदेत्। 
(घ) लता मेधा ______ विद्यालयं गच्छतः। 
(ङ) _______ कुशली भवान्। 
(च) महात्मागान्धी _______ अहिंसां न अत्यजत्। 
उत्तरम् (Answer):
(क) भक्तः सदा  ईश्वरं स्मरति। 
(ख) असत्यं न  वक्तव्यम्। 
(ग) प्रियं तथा  सत्यं वदेत्। 
(घ) लता मेधा च  विद्यालयं गच्छतः। 
(ङ) अपि  कुशली भवान्। 
(च) महात्मागान्धी  कदाचन  अहिंसां न अत्यजत्। 

Question 7: चित्रं दृष्ट्वा मञ्जूषातः पदानि च प्रयुज्य वाक्यानि रचयत - (चित्र देखकर मंजूषा से पद लेकर वाक्य रचना करें)
[नोट - कृपया चित्र पाठ्यपुस्तक में देखें]
मञ्जूषा -  
लिखति  कक्षायाम्  श्यामपट्टे  लिखन्ति  सः  पुस्तिकायाम्  शिक्षकः  छात्राः  उत्तराणि  प्रश्नम्  ते।
उत्तरम् (Answer):
(क) शिक्षकः प्रश्नं लिखति। 
(ख) सः कक्षायां श्यामपट्टे प्रश्नं लिखति। 
(ग) छात्राः उत्तराणि लिखन्ति। 
(घ) ते पुस्तिकायाम् उत्तराणि लिखन्ति। 

अतिरिक्तः अभ्यासः  (CBSE Sample Questions in Sanskrit & Hindi)
Class 7 NCERT Solutions for Sanskrit 
RUCHIRA - Sadaacharah (सदाचार)

Question : एकपदेन उत्तरत - (एकपद में उत्तर दें)
(क) वर्णानाम् आचारः किम् उच्यते ?
(ख) प्रथमं किं स्मरेत् ?
(ग) कीदृशं सत्यं ब्रूयात् ?
(घ) व्यवहारे का स्यात् ?
(ङ) कं मनसा सेवेत ?
उत्तरम् (Answer):
(क) सदाचारः। 
(ख) ईश्वरम् 
(ग) प्रियम् 
(घ) सत्यता 
(ङ) गुरूम् 

Find NCERT Solutions and additional CBSE Sample Questions Answers, Sanskrit Word Meaning in Hindi / English, Chapter's meaning / Summary of Class VII, NCERT Sanskrit Textbook (Ruchira) click - HERE 


No comments:
Write comments