CBSE Guess and Guide for Surdas Ke Pad - Class 8 Hindi, Lesson 15 Vasant Bhag 3 सूरदास के पद

 

Class 8 Hindi, Surdas Ke Pad (सूरदास के पद)

Lesson 15, NCERT Vasant Bhag 3

CBSE Guess - CBSE Guide (Summary)

Question: कविता नाम व प्रसंग का उल्लेख करते हुए व्याख्या कीजिए: (Summary व्याख्या - पहला पद)
मैया, कबहिं बढ़ैगी चोटी
. . . . . . . . . . .
सूरज चिरजीवौ दोउ भैया, हरि-हलधर की जोटी।
Answer:
प्रसंग - प्रस्तुत पद कवि सूरदास द्वारा रचित तथा वसंत भाग 3 में संकलित 'सूरदास के पद' से लिया गया है। मैया यशोदा बालकृष्ण को दूध पिलाने के लिए उसे चोटी बढ़ने का लालच देती है। परंतु बालक को नहीं लगता कि चोटी कुछ बढ़ी है और वह मैया को अपनी मन की बात प्रकट कर रहा है।
व्याख्या - बालकृष्ण मैया से पूछते हैं कि मैया मेरी चोटी कब बढ़ेगी? मै कितने समय से दूध पी रहा हूँ यह अभी भी छोटी की छोटी ही है। हे माँ! तू तो कहती थी कि मेरी चोटी भी भाई की तरह लंबी और मोटी हो जायगी और नागिन के समान लोटती दिखाई देगी। इस चोटी का लालच देकर तू मुझे कच्चा दूध पिलाती ही। बहुत आग्रह करने पर भी माखन-रोटी नहीं देती, जबकि मैं माखन-रोटी पसंद करता हूँ।
इन पदों में ब्रज भाषा का प्रयोग करते हुए बाल सुलभ चेष्टाओं का बड़ा मधुर अंकन हुआ है।

Question: कविता नाम व प्रसंग का उल्लेख करते हुए व्याख्या कीजिए: (Summary व्याख्या दूसरा पद)
तेरैं लाल मेरौ माखन खायौ।
. . . . . . . . . . . . . . . .
सूर स्याम कौं हटकि न राखै, तूँ ही पूत अनोखौ जायौ।
Answer:
प्रसंग - प्रस्तुत पद कवि सूरदास द्वारा रचित तथा वसंत भाग 3 में संकलित 'सूरदास के पद' से लिया गया है। बालक कृष्ण ने अपने सखाओं के साथ एक गोपी के घर में घुसकर उसका माखन खा लिया। वह इसकी शिकायत लेकर माता यशोदा के पास आती है।
व्याख्या - गोपी माता यशोदा को उलाहने भरे स्वर में कहती है - तेरे लाल ने मेरा माखन खा लिया है। दुपहर के समय घर को सूना जानकर, अपने से घर में घुस आया। उसने घर का किवाड़ खोल दिया और अपने साथ-साथ सभी मित्रों को भी दूध-दही-माखन खिलाया। वह कहने लगी कि बालक कृष्ण ने अखल पर चढ़ कर माखन खाया और कुछ लुढ़का दिया।
गोपी माता ने यशोदा से यह भी कहा कि यह बालक प्रतिदिन कुछ-न-कुछ अनोखे करतब कर रहा है और उसके कारण प्रतिदिन दूध की हानि हो रही है। अंत में वह कहती है कि माता यशोदा ने यह कैसा अनोखे बेटे को जन्म दे दिया जो उसे अपने वश में नहीं रख पा रही है।
उपरोक्त पद में कवि ने ब्रजभाषा अपनाई है तथा उपालंभ का प्रयोग किया है।

Question: महाकवि सूरदास द्वारा रचित तिन काव्य-ग्रंथ का नाम लिखिए।
Solution: 1. सूरसागर, 2. सुर सारावली, 3. साहित्य-लहरी 

Question: महाकवि सूरदास जी की रचनाओं के साहित्यिक विशेषताओं का उल्लेख करते हुए दो-तिन वाक्य लिखें। 
Solution: सूरदास वात्सल्य, प्रेम और सौंदर्य के अमर कवि हैं। उनके रचनाओं के मुख्य साहित्यिक विशेषता हैं - विनय और आत्मनिवेदन, बाल-वर्णन, गोपी-कला, गोपी विरह आदि। 


No comments:
Write comments