NCERT Solutions for CBSE Hindi Kshitij Class X - Stree Shiksha Ke Virodhi Kutarkon Ka Khandan by Mahaveer Prasad Dwivedi

 

Stree Shiksha Ke Virodhi Kutarkon Ka Khandan 

by Mahaveer Prasad Dwivedi

Class X Kshitij Bhag 2 (CBSE Hindi Course 'A')

(NCERT Solutions for CBSE Hindi Chapter 15, Kshitij textbook exercise questions) 

स्त्री -शिक्षा के विरोधी कुतर्कों  का खंडन 
To see answers of Kshitij chapter exercise Question Nos (1 - 6) please click the link below:

Mahaveer Prasad Dwivedi - Stree Shiksha Ke Virodhi Kutarkon Ka Khandan - CBSE Class 10 Hindi Kshitij - NCERT Answers

Question No 7: महावीरप्रसाद द्विवेदी का निबंध उनकी दूरगामी और खुली सोच का परिचायक है, कैसे ?
Solution: महावीरप्रसाद द्विवेदी जी ने अपने निबंध "स्त्री शिक्षा के विरोधी कुतर्कों का खंडन" में स्त्रियों की शिक्षा के प्रति अपने विचार प्रकट किये हैं। इस निबंध में द्विवेदी जी ने स्त्रियों के भी पढ़ने-लिखने का ज़ोरदार समर्थन किया है। स्त्री-शिक्षा के विरोधियों के सभी कुतर्कों का उन्होंने बहुत ही कड़े शब्दों में खंडन किया हैं। उन्होंने पुराने ज़माने में स्त्री-शिक्षा पर प्रतिबन्ध होने की मिथ्या धारणा का सप्रमाण गलत सिद्ध किया है।  स्त्री-शिक्षा को अनर्थकारी बताने के कुतर्क को भी उन्होंने अनुचित एवं गलत प्रमाणित किया है। साथ ही यह भी विचार प्रकट किया है कि स्त्री-शिक्षा के उपरान्त ही समाज की उन्नति संभव है।  
स्त्री को भी पुरूष के ही समान अधिकार दिये जाने की बात को तर्कपूर्ण ढंग से सिद्ध करते हुए द्विवेदी जी ने इस निबंध में अपनी उनकी दूरगामी और खुली सोच का परिचय दिया है।               

Question No 8: द्विवेदी जी की भाषा-शैली पर एक अनुच्छेद लिखिए। 
Solution: द्विवेदी जी ने अपने निबंध में विषयानुरूप गंभीर, सरस एवं प्रवाहमयी भाषा का प्रयोग किया है। विचारपूर्ण निबंध होने के कारण इसमें उदाहरण, व्यंग एवं सामसिक शैली का प्रयोग किया गया है। छोटे-छोटे वाक्यों में जनप्रचलित शब्दों के साथ तत्सम एवं तद्-भव शब्दों का प्रयोग किया गया है।  उन्होंने खड़ी बोली हिंदी को गद्द की भाषा के रूप में प्रधानता दी है।        

भाषा-अध्ययन 

Question No 9: निम्नलिखित अनेकार्थी शब्दों को ऐसे वाक्यों में प्रयुक्त कीजिये जिनमें उनके एकाधिक अर्थ स्पष्ट हों - चाल, दल, पत्र, हरा, पर, फल, कुल।   
Solution: चाल१. आजकल मोहन का चाल-चलन ठीक नहीं दिखाई दे रहा है।  २. उसकी घर की चाल पुरानी हो जाने की वजह से बरसात में पानी चुने लगा है। ३. पुलिस नज़र आते ही चोर ने अपनी चाल तेज़ दी।  
दल: १. विद्रोही नेताओं ने मिलकर एक अलग दल बना लिया। २. गेहूँ को दल कर उसका दलिया बनाया जाता है।  

पत्र: १. माताजी का पत्र पाते ही उसने घर के लिए रवाना हो गया। २. बेल-पत्र के बिना शंकर भगवान का पूजा असम्पूर्ण है।  

हरा: १. मेरी शर्ट का रंग हरा है। २. उसके हाथ पर ज़ख्म अभी हरा ही था कि वहीं पर दुबारा चोट लग गई।

पर: १. पर उपकार से बड़ा कोई पुण्य नहीं है। २. मैंने कागज़ पर हस्ताक्षर कर दिया। ३. छोटु गलती पर गलती किये जा था।  

फल: १. परिश्रम का फल मीठा होता है। २. मुझे ताज़ा फल बहुत पसंद है।  

कुल: १. कुल मिलाकर आज का दिन अच्छा रहा। २. परीक्षा में अच्छा परिणाम लाकर उसने अपने कुल का नाम ऊंचा कर दिया। ३. गुरु-कुल के सभी शिष्य अपने गुरूजी का आदर करते हैं।  
    
To see answers of Kshitij Bhag 2 Chapter 15 exercise Question Nos (1 - 6) please click the link below:

Mahaveer Prasad Dwivedi - Stree Shiksha Ke Virodhi Kutarkon Ka Khandan - CBSE Class 10 Hindi Kshitij - NCERT Answers

To see answers of  other Chapters of Class X Hindi Kshitij Bhag 2 please visit:

     

No comments:
Write comments

More From Us