Mere Sapno Ka Bharat - Hindi Essay Nibandh for Class 7-10 | मेरे सपनों का भारत

 

Mere Sapno Ka Bharat - मेरे सपनों का भारत

Hindi Essay Nibandh (Rachna) for Class 7, 8, 9 and 10

मेरे सपनों का भारत से तात्पर्य है - मेरी कल्पना का भारत। 

मैं जब भी भारत के भविष्य पर विचार करती हूँ तो मेरी दृष्टि सर्वप्रथम अपने देश के नेतृत्व पर जाती है। मैं कल्पना करती हूँ कि मेरे भारत का नेतृत्व अत्यंत तेजस्वी होगा। मैं कल्पना करती हूँ कि भारत का सामाजिक और आर्थिक जीवन  सभी प्रकार के भ्रष्टाचार से मुक्त, सुख-समृद्धि से परिपूर्ण होगा। मैं समझती हूँ कि निकट भविष्य में भारत कृषि, परिवहन, संचार, ऊर्जा और स्वास्थ व जनकल्याण के क्षेत्रों में अद्भुत उन्नति करेगा।

मेरा सपना है कि मेरे देश की अपनी जो संस्कार है वह बना रहे एवं परिवार व्यवस्था न टूटे। मैं चाहती हूँ कि भारत दुनिया की सबसे बड़ी प्रजातंत्र राष्ट्र होने के नाते यहाँ और भी ज़्यादा धार्मिक सौहार्द का बातावरण बने। समाज के सभी वर्गों शिक्षा व आर्थिक दृष्टिकोण से एक समान हो।
  
बेरोजगारी से पूरी तरह मुक्त होकर भारत इक्कीसवीं शताब्दी में विश्व की महान व्यावसायिक शक्तियों में गिना जायगा। विज्ञान के क्षेत्र में भी भारत एक महाशक्ति बन कर उभरेगा। मैं चाहती हूँ कि यहाँ के वैज्ञानिक एवं नौजवानों को दूसरे देशों में जाने की आवश्यकता न पढ़ें, बल्कि वे भारत में ही अपने द्वारा किये गए खोंज तथा अनुसन्धान से सम्पूर्ण विश्व को प्रभावित कर सकें।

मेरे सपनों का भारत भ्रष्टाचार-मुक्त एक ऐसा राष्ट्र होगा जहाँ सभी प्रकार की सुबिधा या हर अच्छे काम करने के लिए प्रावधान होंगे। वहां सुख-चैन, हरियाली, भाईचारा तथा प्रगति के सिवाय और कुछ नहीं दिखेगा। आज की तरह इस देश में दुनिया भर से सिर्फ खिलाड़ी ही नहीं, बल्कि दुनिया के हर तबके के लोग बेहतर काम पाने के उम्मीद में और नाम कमाने तथा कुछ देखने व सिखने के लिए भारत आएंगे।

   See More   




12 comments:
Write comments
  1. I don't like this

    ReplyDelete
  2. Thinking skill is good. It can be more better. Less lines but if excellent
    and made the reader in thought and at rest , thought fighting with mind ,is
    the best writing skill

    ReplyDelete
  3. Its very usefulllll.....

    ReplyDelete
  4. It must be given in more lines because that 'll help everyone,i guess

    ReplyDelete
  5. well,how can sommeone give a bad omment like this.you should better appriciate the efforts put on this
    well,the essay is indeed usefull
    thanx

    ReplyDelete