CBSE Guess and Guide - Class 9 NCERT Hindi, Kshitij Megh Aye Sarveshwar Dayal Saxena

 

CBSE Guess and Guide for Kshitij Bhag 1

Class 9 Hindi CBSE Sample Questions with Solutions

मेघ आए (सरवेश्वर दयाल सक्सेना)

Megh Aaye by Sarveshwar Dayal Saxena 

Question: 'मेघ आए' कविता का सार अपने शब्दों में लिखिए।
Solution: 'मेघ आए' प्रकृति-सौंदर्य की कविता है। इस कविता में मेघों को सजे-सँवरे अतिथि (दामाद) के समान दिखाया गया ही। ग्रामीण संस्कृति में किसी शहरी अतिथि या दामाद के आने पर उल्लास का जो वातावरण बनता है, आकाश में मेघों के आने का वर्णन करते हुए कवि ने उसी उल्लास को दिखाया है। जिस तरह अतिथि के आने पर गाँव के लड़के-लड़कियाँ भाग कर सबको इसकी सूचना देते हैं, उसी तरह मेघ के आने की सूचना देने के लिए हवा तेज़ गति से चलने लगीं। घरों के खिड़की दरवाजे खोलकर लोग बाहर झाँकने लगे मानो गाँव में कोई शहरी अतिथि आया हो। आँधी ऐसे ज़ोर से चली मानो कोई ग्रामीण बाला घाघरा उठाए दौड़ पड़ी हो। बाँकी नदी उसे देखने के लिए मानो ठहर गई। जिस तरह मेहमान के आने पर गाँव के वृद्ध आगे आकर और हाथ जोड़कर अतिथि का आदर-सत्कार करते हैं तथा पत्नी दीवार की ओट लेकर देखती हैं उसी तरह आकाश में बादलों के छा जाने पर बूढ़ा पीपल की डालियाँ झुकने लगीं और लताएँ ओट में छिपने लगीं। तालाब प्रसन्न होकर हिलने लगे। आकाश में बिजली चमकने लगी। सहसा रिमझिम बूँदें बरसने लगीं।

Question: 'मेघ आए' कविता में हवा किस प्रकार चली?
Solution: हवा मेघों के आगे-आगे नाचती-गाती हुई चली।

Question: 'पाहून' का अर्थ क्या है।
Solution: 'पाहून' शब्द का अर्थ अतिथि है।

Question: 'मेघ आए' कविता में 'मेघ' के आगमन को किस प्रकार से चित्रित किया गया है?
Solution: इस कविता में मेघ का चित्रण एक सजे-सँवरे शहरी अतिथि या दामाद के रूप में किया गया है जो कि लंबी प्रतीक्षा करवाने के बाद गाँव में आया है। इस अतिथि के आगमन से न केवल गाँव के लोग बल्कि नदी-नाला, पेड़-पौधे, पीपल सभी प्रसन्न हो उठते हैं।

Study NCERT Solutions :



No comments:
Write comments

More From Us