Kshitij Bhag 2, Yashpal - Class X Hindi, CBSE Guide and NCERT Hot Questions - यशपाल - लखनवी अंदाज़

 

Previous Post (Class 10 NCERT Hindi  Kshitij - Chapter 12, Yashpal - Solutions of CBSE sample Questions of यशपाल - लखनवी अंदाज़)


Question 7: खीरे की फाँकों को खिड़की से बाहर फेंकने के पश्चात नवाब साहब के चेहरे पर आए भावों का वर्णन दीजिये।   
Answer: नवाब साहब लोगों की नज़रों से बचकर खीरे खाना चाहते थे, परन्तु लेखक के वहाँ आ जाने से उनकी यह चाहत पूरी न हो सकी । तब उन्होंने खीरे को काटकर, नमक-मिर्च लगाकर तैयार किया और फिर सूँघकर ही तसल्ली करते हुए उन्हें खिड़की से बाहर फेंक दिया । खीरे की फाँकों को खिड़की से बाहर फेंकने के पश्चात नवाब साहब के चेहरे पर एक संतुष्टि और गर्व के मिले-जुले भाव आये । और उन्होंने लेखक की ओर गर्व-भरी आँखों से इस प्रकार देखा मानों कि वे लेखक से कह रहे हो कि - देखा, यही है नवाबों और खानदानी रईसों का तरीक़ा । इसके पश्चात वे ऐसे लेट गए जैसे खीरे खाने की तैयारी और इस्तेमाल से थक गए हों ।       

Question 8: नवाब साहब द्वारा खीरा खरीदने फिर उसे न खाने का क्या कारण रहा होगा ? Or, 
                      आपके विचार से नवाब साहब ने खीरे की फाँकों को खिड़की से बाहर क्यों फेंक दिया ?   
Answer: नवाब साहब ने खीरा इसलिए खरीदा होगा, ताकि यात्रा का समय व्यतीत हो सके । परन्तु लेखक के वहाँ आ जाने से उन्होंने अपनी योजना बदल दिया । उन्होंने खीरे को काटकर, नमक-मिर्च लगाकर तैयार किया और फिर सूँघकर ही तसल्ली करते हुए उन्हें खिड़की से बाहर फेंक दिया । उन्होंने ऐसा यह सोचकर किया होगा कि नवाब होते हुए खीरे जैसे साधारण वस्तु खाने पर उनका लेखक की नज़र में सम्मान कम हो जाएगा । इसी संकोच के कारण तथा अपनी खानदानी रईसी और नवाबी को दिखाने के लिए ही उन्होंने खीरे की फाँकों को खिड़की से बाहर क्यों फेंक दिया ।   

Question 9: नवाब साहब का लेखक से खीरा खाने का आग्रह करना लेखक को अच्छा क्यों नहीं लगा ?        
Answer: जब नवाब साहब ने लेखक का अभिवादन करते हुए उनसे खीरा खाने का आग्रह किया, तब उनका यह अचानक भाव परिवर्तन लेखक को अच्छा नहीं लगा । ऐसा इसलिए क्योंकि नवाब साहब ने कुछ ही देर पहले तो लेखक के वहाँ आने पर असंतोष का भाव प्रकट किये थे, जबकि वे इस समय उनसे खीरा खाने का आग्रह कर रहे थे ।  

Previous Post (Class 10 NCERT Hindi  Kshitij - Chapter 12, Yashpal - Solutions of CBSE sample Questions of यशपाल - लखनवी अंदाज़)

No comments:
Write comments